2018 Short Poems on Diwali Festival in Hindi & English For Kids

इस लेख में मैंने बच्चों के लिय  दिवाली पर हिन्दी में कविताओं पर लेख लिखा साझा किया है और दीवाली को हिन्दी में कविता बुलाते  हैं जिन्हें हम बच्चों के लिए हिंदी में बुलाते हैं। हमारी टीम के पास स्कूल जाने वाले बच्चों और बच्चों के लिए प्राथमिक वर्ग में या माध्यमिक कक्षा में हिंदी और अंग्रेजी दोनों भाषाओं में दीवाली पर कम 10 लाइन कविताओं हैं। हिंदी में छोटी और छोटी दीवाली कविताओं को छूने वाला यह दिल बच्चों के लिए सीखना आसान है और अंग्रेजी में दीवाली पर भी बहुत कम कविताओं को अनूठा किया जाता है। 10 लाइनों के दीवाली त्यौहार पर ये कविताओं कक्षा 1 से 8 के छात्रों के लिए बहुत उपयोगी है। मैं इस खूबसूरत दिवाली कविताओं और दीपावली कविता को गहरावली 2018 पर साझा करने और व्यक्त करने के लिए व्यक्त कर रहा हूं और दीवाली की इच्छाओं के उत्तर के रूप में भी इसका इस्तेमाल किया जा सकता है।

image.png

 

In this article, I have written on Diwali poems for children’s poems, which we call in English and Diwali, which we call for children in Hindi. Our team has less than 10 line poems on Diwali in Hindi and English both in primary classes or in secondary class for children and children going to school. This heart which touches the short and shortest Diwali poems in Hindi is easy to learn for children and very few poems are unique in English, even on Diwali. These poems are very useful for students of Class I to VIII on Diwali festival of 10 lines. I am expressing this beautiful Diwali poems and Deepawali poem for sharing and expressing on 2018 and it can also be used as an answer to the wishes of Diwali.

2018 Poem on Diwali Festival in English

 

Songbirds rouse the bright morning.

Breakfast warms.

Doorbell chimes and the neighbors smile.

New clothes sparkle and the drumbeats dance.

Warm hugs make me wriggle. Stories hold me still.

Sweets turn my smile sticky and the temple bells clang.

Music chases sunset while the evening darkens sky.

Oil lamps flicker and the stars shimmer on.

Fireworks dazzle and the laughter ripples out.

Feet fight bedtime,

But sudden sleep

Folds me in blanket

Of Diwali dreams.

Special 2018 Happy Diwali Poem for Kids

The first Diwali

All the people shed so many tears

When Ram left for 14 years.

14 years, in a forest deep1

Where he and sita used to sleep.

Until ravan spoiled Ram’s life

By stealing Sita for a wife.

Ravan took her in his chariot high

Over the sea and across the skies.

The Indian monkey king, called as hanuman

Helped the king Ram with a plan.

He built a bridge across the sea

So king Ram could set Queen Sita free.

Then, in a battle, fierce and long

Ram showed how strong he was.

Ravan killed, and Sita was saved

Ram was so bold and brave.

On Ram’s return to Ayodhya city

The people made king Ram’s journey pretty

By lighting lamps (diya) along his way

And so it was until this day.

That diva lamps, like guiding lights

Reminding all of us that good is right.

And from the dark of ignorant ways

Grants knowledge for our bright future days.

@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@@

पहली दिवाली

सभी लोगों ने इतने सारे आँसू बहाए

जब राम 14 साल तक चले गए।

14 साल, जंगल में गहरे में

वह कहाँ और सीता सोते थे।

रावण ने राम के जीवन को खराब कर दिया

एक पत्नी के लिए सीता चोरी करके।

रावण ने उसे अपने रथ में ले लिया

समुद्र और आकाश भर में।

भारतीय बंदर राजा, जिसे हनुमान कहा जाता है

एक योजना के साथ राजा राम की मदद की।

उसने समुद्र भर में एक पुल बनाया

तो राजा राम रानी सीता को मुक्त कर सकते थे।

फिर, एक लड़ाई में, भयंकर और लंबा

राम ने दिखाया कि वह कितना मजबूत था।

रावण की मौत हो गई, और सीता बचाई गई

राम इतना बोल्ड और बहादुर था।

अयोध्या शहर में राम की वापसी पर

लोगों ने राम राम की यात्रा सुंदर बना दी

अपने रास्ते के साथ दीपक प्रकाश (दीया) द्वारा

और इसलिए यह आज तक था।

मार्गदर्शक दीपक की तरह, दीवा लैंप

हम सभी को याद दिलाएं कि अच्छा सही है।

और अज्ञानी तरीकों के अंधेरे से

हमारे उज्ज्वल भविष्य के दिनों के लिए ज्ञान प्रदान करता है

2018 Best Diwali Kavita For Kids

Aai Diwali, Aai Diwali,

Aai Diwali re!

Deep jalaao, khushi manaao,

Aai Diwali re!

Khub chale fuljhadi phatake,

Aai Diwali re!

Sabko baato khub mithai,

Aai re Diwali!

##################################

ऐ दीवाली, ऐ दीवाली,

ऐ दीवाली फिर!

दीप जलाओ, खुशी मनाओ,

ऐ दीवाली फिर!

खुब चले फुलजदी फाटक,

ऐ दीवाली फिर!

सबको बाटो खुब मिठाई,

ऐई री दीवाली!

%%%%%%%%%%%%%%%%%%%%%%%%

Diwali aai, Diwali aai, khushiyo ki bahaar laai!

Dhoom dhamaka doom doom, chakari, bomb, hawai, inse bachna bhai!

Diwali aai, Diwali aai, khushiyo ki bahaar laai!

Phatake baaje doom-doom, doom-doom!

Naache gaaye hum aur tum…?

Ghar-ghar deep jalenge, aayegi mithai!

Diwali aai, Diwali aai, khushiyo ki bahaar laai!

Dhoom dhamaka doom doom, chakari, bomb, hawai, inse bachna bhai!

Diwali aai, Diwali aai!

************************************

दिवाली आई, दीवाली आई, खुशीओ की बहार लाई!

धूम धामका डूम डूम, चाकरी, बम, हवा, असुर बच्चन भाई!

दिवाली आई, दीवाली आई, खुशीओ की बहार लाई!

फाटक बेज डूम-डूम, डूम-डूम!

नाच गाये हम और तुम …?

घर-गढ़ गहरे जलेन्ग, आयेगी मिठाई!

दिवाली आई, दीवाली आई, खुशीओ की बहार लाई!

धूम धामका डूम डूम, चाकरी, बम, हवा, असुर बच्चन भाई!

दिवाली आई, दीवाली आई!

2018 Deepavali Kavita in Hindi Font

जगमग-जगमग गहरी जेल
रोशन घर का हो हार कोना!
प्रकाश के जय जज उज्ज्वल तन हो
जन-जन savjan और निर्मल मान हो!
रोशनी का आगाज जाहा हो
तुम वाहा हो हम वाहा हो!
दुर तम के एंडकार हो
मिथ सुर हो मिठी ताल हो!
शुभकामने है याही हमरी
सतंगंगी हर दीवाली हो!
@@@@@@@@@@@@@@@@
Jagmag-jagmag deep jale
Roshan ghar kaa ho haar kona!
Prakaash keh jaise ujjwal tan ho
Jan-jan savjan aur nirmal mann ho!
Roshni ka aagaaz jaha ho
Tum vaha ho hum vaha ho!
Dur tam ke andkaar ho
Mithe sur ho mithi taal ho!
Shubhkaamnaaye hai yahi hamari
Satrangi har Diwali ho!

Special Poem on Shubh Diwali

Mangal deep jalaao, aai Diwali aai!

Andhiyaare ko dur bhagaao, apne ghar me khushiya laao!

Nacho gaao doom machao mann ke andhere ko mitaao,

Laddo aur payde khaao, Jeevan me mithas laao!

Yeh parv hai milan ka, apno ke sang pyaar baatne ka,

Sabki khushiyali ka, to fir nacho gaao, mangal deep jalaao!

!!Aai Diwali aai!!

Shubh Diwali

%%%%%%%%%%%%%%%%%%%%%%%%%%

मंगल गहरे जलाओ, ऐ दीवाली आई!

अंधेयरे को दो भगाओ, अपने घर मुझे खुशिया लाओ!

नचो गाओ डूम मकाओ मान के औररे को मिताओ,

लड्डू और पेदे खाओ, जीवन मुझे मिठास लाओ!

ये पार्व है मिलन का, अपनो के साथ प्यार बातेने का,

सबकी खुशीयाली का, फ़िर नाचो गाओ, मंगल गहरी जलाओ!

!! ऐ दीवाली आई !!

शुभ दिवाली

2018 Pollution Free Diwali Poem

Ghar-ghar deep jag magaa aye to Diwali hai,

Laxmi maata jab ghar aaye to Diwali hai!

Do pal ke hi shor se kya khushi milegi,

Dil ke diye jo mil jaaye to Diwali hai!

Saaf-safai ho, ghar chamchamaye to Diwali hai,

Mithai-pakwaan mil kar khaye to Diwali hai!

Phatako se roshni hogi, dhuye bhi hoga,

Diye nafrat ke buj jaaye to Diwali hai!

Aur iss Diwali “Maanas Khatri” kay eh Sandesh hai ki-

“Diwali Jab Aap Ke Daavr Aaye To Use Gale Lagaaiyegaa,

Phatako Ke Dhuye Aur Shor ke Bich,

Isse ‘Diwali’ Se Pollution-Wali, Mat Banaaiyegaa!”

!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!!

घर-घर गहरी जाग मगा ऐ दीवाली है,

लक्ष्मी माता जब घर आये दीवाली है!

करो दोस्त के हाय शोर से क्या खुशी मिल्गी,

दिल के दीये जो मिल जाये दीवाली है!

साफ-सफाई हो, घर चंचमाय से दिवाली है,

मिठाई-पक्वान मिल कर खयई दिवाली है!

फाटको से रोशनी होगी, धुय भी होगा,

दीव नफरत के बुज जाये दीवाली है!

और दीवाली जारी करें “मानस खत्री” के साथ संदेश है की-

“दीवाली जब आप के दावर आये गेल लागाईयेगा का प्रयोग करने के लिए,

फाटको के धुय और शोर के बिच,

इस्से ‘दिवाली’ से प्रदूषण-वाली, मट बनियायेगा! “

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *